शनिवार, 7 जनवरी 2012

मोर छत्तीसगढ़ के भुइयां !!

मोर धरती मोर मईयां , मोर छत्तीसगढ़ के भुइयां !!
तोर बेटा आन दाई वो ,  परत हन  तोर पईयां !!

तोर कोरा मा हमन दाई , आये हवन वो !
बड भागी आन तोर माया ला पाए हवन वो !

हमर जिनगी नैयाँ के तैहर खेवैया !!
तोर बेटा आन दाई वो ,  परत हन  तोर पईयां !!

महानदी के इन्हां बोहत हे अमृत कस पानी !
कलकल करत हे इंदिरावती गाये  गुरुतुर बनी !!

अरपा-पैरी, शिवनाथ, हसदो सब तोर गोड़ धोवैया
तोर बेटा आन दाई वो ,  परत हन  तोर पईयां !!

जुल मिल के जम्मो झंन  तोर कोरा मा रहिथन !
ताहि हां सब के महतारी , तोरे गुण ला गाथन !!

तोर रक्षा खातिर दाई हम आपन जान देवैया
तोर बेटा आन दाई वो ,  परत हन  तोर पईयां !!



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें