बुधवार, 11 जनवरी 2012

जीत उही ला मिलथे संगी

जीत उही ला मिलथे संगी; 
                   नई थके जेन हार के !!
चलव, रुकव झन,हार मान तुम; 
                   मंजिल कहे पुकार के !!

भागत-दौड़ात गिर जाथे जी; 
                     बने-बने हा खसलके !
गिरे ले कौनो नि गिर जाये; 
                  जे उठ जाथे समहलके !

नानकुन चांटी चढ़ जाथे ; 
                      मुड मा  पहाड़  के   !
चलव, रुकव ................

गोंड  मा पर  के जे माटी  ह,
                    खूंदा-खूंदा  के सनाथे !
एक  दिन उही हड़िया बन, 
                मनखे  के प्यास  बुझाथे !


मांटी सही सहे ला परथे; 
                         पीर ला संसार के !!
चलव, रुकव ................

अपन भूखन लांघन रही के ,
                       पर के पेट ला भरथे !
पईयां लागव  मैं  किसान के,
                जे घाम, जाड सब सहिथे !


सूरज ले पहली उठ जाथे;
                   भींसरहा मुन्धियार  के !
चलव, रुकव ................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें