मंगलवार, 10 जनवरी 2012

घोटाला के घोल !

घोटाला के घोल पी-पी के ;
जम्मो झन्न घोला गेव रे !
जेकर खातिर नेता बनेव ;
उही जनता ला भुला गेव रे !

लोगन के गोड़ मा चप्पल नई हे ;
हवा म उडव बेईमान मन !
तुमन खाव्व छक्कत ले
भूखन मरे किसान मन !

अब तो फंदहू मुसवा कस
कहाँ  जाहु सैतान मन !
जेल के रोटी अगोरत हे तुमला ;
अमरव जल्दी जजमान मन !



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें