मंगलवार, 30 जुलाई 2013

मोला रोवासी आ जाथे ।


देख के इकर हाल मोला रोवासी आ जाथे । ।।
रोए नी सकव मोर मुँह मा अब हाँसी आ जाथे ।।

आज काल के लइकामन भुला गिन मरजादा,
मुहाटी मा आके सियान ला तभो खासी आ जाथे ।।

बरा अउ सोहारी बेटा बहु रोज खाथे ,
सियानिन के भाग मा बोरे बासी आ जाथे ।।

पढ लिख के बेटा हा हो गेहे सहरिया ,
हाल पुछ बर कभू कभू चपरासी आ जाथे ।।


                     मथुरा प्रसाद वर्मा   प्रसाद
                                               8889710210 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें