शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

मार देही मोला,


मार देही मोला, फेर मि‍टा नई सकय
ए रद्दा ले कोनो, हटा नई  सकय
मया आंव संगी, हिरदे मा रहि जाहूं
मोर हस्‍ती ला कोनो, भूला नई सकय
मोर हाडा कठवा आय, भुंजा जाही फेर
आगी ले डेरा के कोनो, पिघला नई  सकय

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें