रविवार, 15 मार्च 2015

मुक्तक


                         1.

बहुत अभिमान मैं करथौ
                     छत्तीसगढ के माटी मा ।
मोर अंतस जुड़ा जाथे
                    बटकी भर के बसी मा।
ये माटी नो हाय महतारी ये
                         एकर मानतुम करव
बइला आन के चरत हे
                    काबर  तुम्हर बारी म ।।

                       2


मय तोर नाव लेहुँ
                  अउ तोरे गीत  गा के मर  जाहूं ।।
जे तै इनकार कर देबे
                        मय कुछु खा के मर जाहुं ।।
अब तो लगथे ये जी जाही
                         संगी रे तोरे  मया म  
अउ कह इकरार कर लेबे
                        त मय पगला के मर जाहुं ।।

                      3
ये कैइसे पथरादिल संग,
            मैं ह काबर पियार कर डारेव ।।

जे दिल ल टोर के कईथे

                 का अतिया चार कर डारेव ।।
नई जानिस वो बैरी ह

                     कभू हिरदे के पीरा ला;
जेकर मया म जिनगी ल
                   मैं अपन ख़्वार कर डारेव।।

                     4
मोर घर म देवारी के

                   दिया दिनरात जलते फेर।।
महूँ ल देख के कोनो
                  अभी तक हाथ मलत फेर।।

  
मैं तोरे नाव  ले ले के

                  अभी तक प्यासा बइठे हौ
मोरो चारो मु़ड़ा घनघोर  
                       बादर बरसथे फेर।।
                    5
महू तरसे  हव तोरे बर

                   तहु ल तरसे बर परही
मय कतका दुरिहा रेंगे हौ

                  तहूँ ल सरके बर परही।।
मय तोरे नाव क चातक

                 अभी ले प्यासा बइठे हौ
तड़प मोर प्यास    होही

                त तोला बरसे बर परही।


                   6

Top of Form
Bottom of Form
मोर घर छितका कुरिया अऊ,

                  तोर महल अटारी हे ।।
तोर घर रोज महफिल अऊ,

                   मोर सुन्ना दुवारी हे ।।
तहु भर पेट नई खावस,

                  महु भर पेट नई खावव
तोर अब भूख नई लागय,
              मोर करा जुच्छा थारी हे ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें