सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

छत्तीसगढ़ी घनाक्षरी


1.
आज मोर देश मा हे,
                        चारो कोती बेईमानी,
बाढ़त मंहगाई ले,
                              लोग परेसान हे।

पक्ष अउ विपक्ष मा,
                           माते हावे झगरा ह ,  जनता के हित बर,
                          कोन ल धियान हे?

मिठलबरा मन हा  ,
                        गोठ म भुलवारे हे,
मजदूरी किसानी म,
                              छुटत परान हे।

झन कही बात सहीं, 
                     तही बैरी बन जाबे,
पहरेदार चोर संग, 
                              बदत मितान हे।



2.

छत्तीसगढ़ी भाखा ल,
                  छत्तीसगढ़ राज म,
राजभासा हक अब,
                             दिलाये ल परही।
उही कवि लेखक ह,
                      रही इतिहास म जी,
जे निज भाखा बर,  
                           जिही अउ मरही।
जे हा बैरी मन के जी,
                         पाँव तरी गिरे रही,
उही बेशरम चारा, 
                             चार दिन चरही।
कहे परसाद ह जी,
                        हाथ जोड़ पाव पर,
मर जा तै हक बर,
                               पुरखा ह तरही।


3.

मया मा बंधा के गोरी, 
                 मैं हा तोर चोरी चोरी,
कारी कारी नैनन म, 
                            नैन अरझाये हौं।

भूख प्यास लागे नहीं,
                   जिहां देखो तोरे सहीं,
रही रही गली गली ,
                         चक्कर लगाए हौं।

अब कोनो ताना मारे,
                       कोनो मोला भुलावारे,
तारे-नारे तारे-नारे, 
                           गीत तोर गाये हौं।

बइहा सही घुमथौ,
                              नाचत अउ झुमथौ,
घूम घूम तोरे संग,
                              पिरित लगाये हौं।



4

देश के भविष्य गढ़,
                   पढ़-पढ़ पढ़-पढ़,
अनपढ़ झन रह ,
                     चल आगे बढ़ जी।

आखर के खेती कर,
                    कर म कलम घर,
अंधियारा संग तै ह, 
                     डट कर लड़ जी।

उबड़ खाबड़ रद्दा, 
                    जिनगी के तभो ले तै,
उठ-गिर गिर-उठ,
                       पाहड़ मा चढ़ जी।

अड़बड़ गड़बड़, 
                 चारो कोती मचे हे जी,
सम्हल के चल तै ह ,
                      अब झन बिगड़ जी।



5,

अब काबर कोनो ह,
                हक बर लड़े नहीं,
जेला देख  तिही हर, 
                            मुड़ ल नवाये हे।


इही माटी हरे जिन्हां,
                        वीर नारायण जैसे,
सपूत ह देश बर , 
                       शीश ल चढ़ाये हे।

गुंडाधुर जैसे वीर,
                     बइरी के छाती चीर।
लहू के तरिया

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

छत्तीसगढिया शायरी

नसा  नस-नस मा समागे , आज के समाज के ।।  नसा के गुलाम होगे , नवजवान आज के ।।  पीढी -दर -पीढी एखर  परचार चलत हे अरे एखरे कमाई मा  सरकार चलत हे ।।


मोर घर छितका कुरिया अऊ, तोर महल अटारी हे ।। तोर घर रोज महफिल अऊ, मोर सुन्ना दुवारी हे ।। तहु भरपेट नई खावस, महु भरपेट नई खावव  तोला  अब भूख नई लागय, अउ मोर  जुच्छा थारी हे ।।

अब फेर आहीं

अब फेर आहीं हमर दुवारी वो मन ।।
करही एक दूसर के चारी वो मन।।


काबर कि आवत हे अब फेर चुनाव।
बन जाहीं हमन के संगवारी वो मन।।


देखाहीं हमला फ़ेर सुराज के सपना
मारहीं आनीबानी के लबारी वो मन ।।


अभी तो माढ़ ही इखर गोड़ भुइयां मा
फेर आगास मा उड़ाही वो मन।।


हम मन ला भुला जाही पांच बछर फेर
कुर्सी के करही रखवारी वो मन ।।

शायरी मोर छत्तीसगढ़ के

ओकर हक म नई आवय फूल, जे पर बर कांटा बोही। के दिनभर  हांसही चाहे, कलेचुप साँझ के  रोही। पीरा ल देख के ककरो , कभू तंय झन हाँसे कर , आज मोर साथ होवत हे, काली तोर साथ म होही।


वो मोल देख भर लिही , गुलाबी गाल हो जाही। प्रेम फूल, फूलही अउ बगरके गुलाल हो जाही। भुलाये नई सकय  कभू, एसो के होरी ल; मया के रंग म रंग के , वो ह लाले लाल हो जाही।

तोर सुरता के गोटी ह गोड़ म गड़ जाथे। मया के पा के पंदोली  मुड़ म चढ़ जाथे। मैं सोज अपन रद्दा म आथव-जाथव फेर; जब तोला देख लेथव मोर मति बिगड़ जाथे।




मया म मुँह ओथराबे, त तै बीमार हो जाबे। वोकर बर जान दे देबे,तै अखबार हो जाबे। किनारे बैठ के रो-रो के कोंन ह पार उतरे हे; उदिम कर तै ह बुड़ जाबे या नदियाँ पार  हो जाबे।

मोर घर छितका कुरिया अऊ, तोर महल अटारी हे ।। तोर घर रोज महफिल अऊ, मोर सुन्ना दुवारी हे ।। तहु भरपेट नई खावस, महु भरपेट नई खावव  तोला  अब भूख नई लागय, अउ मोर  जुच्छा थारी हे ।।