मंगलवार, 18 अक्तूबर 2016

छत्तीसगढ़ी घनाक्षरी


1.
आज मोर देश मा हे,
                        चारो कोती बेईमानी,
बाढ़त मंहगाई ले,
                              लोग परेसान हे।

पक्ष अउ विपक्ष मा,
                           माते हावे झगरा ह ,  जनता के हित बर,
                          कोन ल धियान हे?

मिठलबरा मन हा  ,
                        गोठ म भुलवारे हे,
मजदूरी किसानी म,
                              छुटत परान हे।

झन कही बात सहीं, 
                     तही बैरी बन जाबे,
पहरेदार चोर संग, 
                              बदत मितान हे।



2.

छत्तीसगढ़ी भाखा ल,
                  छत्तीसगढ़ राज म,
राजभासा हक अब,
                             दिलाये ल परही।
उही कवि लेखक ह,
                      रही इतिहास म जी,
जे निज भाखा बर,  
                           जिही अउ मरही।
जे हा बैरी मन के जी,
                         पाँव तरी गिरे रही,
उही बेशरम चारा, 
                             चार दिन चरही।
कहे परसाद ह जी,
                        हाथ जोड़ पाव पर,
मर जा तै हक बर,
                               पुरखा ह तरही।


3.

मया मा बंधा के गोरी, 
                 मैं हा तोर चोरी चोरी,
कारी कारी नैनन म, 
                            नैन अरझाये हौं।

भूख प्यास लागे नहीं,
                   जिहां देखो तोरे सहीं,
रही रही गली गली ,
                         चक्कर लगाए हौं।

अब कोनो ताना मारे,
                       कोनो मोला भुलावारे,
तारे-नारे तारे-नारे, 
                           गीत तोर गाये हौं।

बइहा सही घुमथौ,
                              नाचत अउ झुमथौ,
घूम घूम तोरे संग,
                              पिरित लगाये हौं।



4

देश के भविष्य गढ़,
                   पढ़-पढ़ पढ़-पढ़,
अनपढ़ झन रह ,
                     चल आगे बढ़ जी।

आखर के खेती कर,
                    कर म कलम घर,
अंधियारा संग तै ह, 
                     डट कर लड़ जी।

उबड़ खाबड़ रद्दा, 
                    जिनगी के तभो ले तै,
उठ-गिर गिर-उठ,
                       पाहड़ मा चढ़ जी।

अड़बड़ गड़बड़, 
                 चारो कोती मचे हे जी,
सम्हल के चल तै ह ,
                      अब झन बिगड़ जी।



5,

अब काबर कोनो ह,
                हक बर लड़े नहीं,
जेला देख  तिही हर, 
                            मुड़ ल नवाये हे।


इही माटी हरे जिन्हां,
                        वीर नारायण जैसे,
सपूत ह देश बर , 
                       शीश ल चढ़ाये हे।

गुंडाधुर जैसे वीर,
                     बइरी के छाती चीर।
लहू के तरिया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें